Political Murder of Rohith Vemula

पुराने वक़्त की बॉलीवुड फिल्मों में जैसे हीरो के गुंडों को पीट पीट अधमरा करने के बाद पुलिस आखिर में पहुँचती थी ठीक वैसे ही देश के नेता अपनी राजनितिक रोटियां सेंकने के लिए किसी भी हादसे के बाद पहुँच ही जाते हैं। फिर शुरुआत होती है देश के लोगों की तरफ से चुने गए देश सेवकों के राजनितिक बयानों की।

ऐसा ही कुछ माहौल देखने को मिल रहा है इतवार के दिन हैदराबाद यूनिवर्सिटी में हुई दलित स्कॉलर रोहित वेमुला की मौत के बाद। जहाँ एक तरफ इस घटना के बाद से ही देश भर में स्टूडेंट एसोसिएशन्स ने सड़कों पर आकर सरकार और यूनिवर्सिटी के खिलाफ जबरस्दस्त प्रदर्शन शुरू कर दिया है वहीँ देश की राजनितिक पार्टियां अपनी रोटियां सेंकने में लगी हैं। इसी कोशिश में आज जहाँ कांग्रेस उप-अध्यक्ष राहुल गांधी हैदराबाद पहुंचे वहीँ आम आदमी पार्टी के नेता और दिल्ली के सी एम अरविन्द केजरीवाल ने मोदी सरकार के खिलाफ अपना मोर्चा खोल दिया है।

हालाँकि देश में जो घटना हुई है उसे लेकर हर किसी के मन में गुस्सा है और गुस्सा आना जायज़ भी है लेकिन सवाल यह उठता है कि राजनितिक पार्टियां जिन्हें देश में हो रही हर घटना की खबर रहती है वो दंगों, आत्महत्या, या ऐसे और मुद्दों पर बात हाथ से निकल जाने के बाद ही क्यों बयानबाज़ी शुरू करती हैं या मौके पर पहुँचती हैं।

अरविन्द केजरीवाल ने आज मीडिया में दिए एक बयान में कहा है कि रोहित वेमुला ने आत्महत्या नहीं की है उसकी मौत राजनितिक कारणों की वजह से हुई है, दलितों की ज़िन्दगी सुधारना मोदी सरकार की संवेधानिक जिम्मेवारी है लेकिन मोदी सरकार के नेताओं ने दलित स्टूडेंट्स को ससपेंड करवाया और परेशान किया है। यह डेमोक्रेसी, इन्साफ और बराबर के हक़ों का क़त्ल है।

गौरतलब है कि हैदराबाद यूनिवर्सिटी के एक दलित रिसर्च स्कॉलर रोहित वेमुला ने पिछले साल यूनिवर्सिटी से बिना वजह सस्पेंड किये जाने के बाद इतवार के दिन फांसी लगा कर आत्महत्या कर ली थी। अपने सुसाइड नोट में रोहित ने इसके पीछे की वजह कॉलेज एडमिनिस्ट्रेशन की तरफ से किये जा रहे भेदभाव और उन्हें क्लासेज लगाने के लिए बहाल न किया जाना बताया है। रोहित की आत्महत्या के बाद की जांच में पता चला है कि रोहित और उसके चार साथियों को बिना वजह के परेशान किया जा रहा था। हालाँकि पुलिस ने यूनिवर्सिटी के वाईस चांसलर और यूनियन लेबर मिनिस्टर बंदारु दत्तात्रेय के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर ली है लेकिन इस केस का अंजाम क्या होगा वो तो आप भी समझते ही होंगे।

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s